संस्थान

शैक्षणिक

विद्यार्थीगण

टाइम लाइन

न्यूज बोर्ड

English

प्राशीतन अभियांत्रिकी

क्रायोजेनिक इंजीनियरिंग सेंटर क्रायोजनेनिक्स और क्रायोजेनिक इंजीनियरिंग की उन्नति के लिए नेयूदूम्मा समिति की सिफारिश पर 1976 में स्थापित किया गया था। तीन प्रमुख विषयों, अर्थात् भौतिकी, मैकेनिकल इंजीनियरिंग, केमिकल इंजीनियरिंग से आदानों के साथ क्रायोजेनिक इंजीनियरिंग की तरह एक उन्नत केंद्र बनाने के उद्देश्य के लिए, शिक्षण और अनुसंधान के माध्यम से विज्ञान और प्रौद्योगिकी के इस उन्नत क्षेत्र में विशेषज्ञ जनशक्ति उत्पन्न करने के लिए किया गया था।

शिक्षण में, केंद्र क्रायोजेनिक इंजीनियरिंग में पाठ्यक्रम में एक चार सेमेस्टर एम.टेक प्रदान करता है। इसके अलावा, यह क्रायोजेनिक्स और क्रायोजेनिक इंजीनियरिंग से संबंधित कई ऐच्छिक विषय बी टेक स्तर पर प्रदान करता है।

उत्कृष्टता के एक केन्द्र होने के नाते, प्रायोजित अनुसंधान और परामर्श केंद्र में गतिविधियों के मूल में रहते हैं।

केंद्र में अति सुचालकता और अतिचालक उपकरणों, वैक्यूम प्रौद्योगिकी, गैस जुदाई और शुद्धि, प्रशीतन और गैसों के द्रवीकरण, क्रायोजेनिक खाद्य प्रसंस्करण, प्राकृतिक गैस और हाइड्रोजन ऊर्जा, वायु पृथक्करण प्रौद्योगिकी, क्रायोजेनिक प्रोसेस इंजीनियरिंग, नाइट्रोजन लिक्यूफायरस, क्रायोजेनिक इंस्ट्रुमेंटेशन शामिल आदि अपनाए गए प्रमुख अनुसंधान क्षेत्र शामिल हैं। केंद्र में प्रकाशनों की अच्छी संख्या अनुसंधान गतिविधियों का एक प्रमुख सूचक है। केन्द्र को डीएसटी, बीएआरसी, आईएसआरओ, सीएचटी, एमएचआरडी, सीएसआईआर एवं सरकारी अन्य संस्थाओं से प्रचुर सहयोग प्राप्त होता है। एफआईएसटी कार्यक्रम के अंतर्गत डीएसटी से बहुत बड़ी राशि तरल-हीलियम मुक्त उच्च सुचालक चुंबक आधारित शोध सुविधा इस केन्द्र में विकसति करने के लिए अनुदान में प्राप्त हुई है।

इन शोध सुविधाओं एवं क्रायोजेन उत्पादन सुविधाओं के अतिरिक्त प्राशीतन अभियांत्रिकी के क्षेत्र में इंडो-एफआरजी सहयोग के अंतर्गत द्विराष्ट्र पारस्परिक संबंधों को अति आधुनिक बनाने का प्रयास किया गया है। यहां यह स्पष्ट करना भी समुचित होगा कि केन्द्र लगभग हर समय अबाध तरल नाइट्रोजन उत्पादन में संलग्न है एवं संपूर्ण संस्थान की ही नहीं बल्कि मेदिनीपुर जिले की कुछ सरकारी संस्थाओं की भी आवश्यकताओं की पूर्ति की जाती है।

संस्थान में बहुत अच्छी कार्यशालाओं की सुविधाएं हैं एवं बहुत ही सक्षम एवं सहयोगी स्टाफ है। विद्यार्थियों को बहुत अच्छी कंप्यूटेशनल सुविधाएं प्रदान की जाती हैं। प्रत्येक संकाय सदस्य को सर्वश्रेष्ठ कंप्यूटर सुविधाएं दी जाती हैं। यहां पर एक प्रौद्योगिकीय पुस्तकालय है जिसमें काफी मात्रा में चुनी हुई पुस्तकों एवं जरनलों को नियमित रुप से उपलब्ध कराया जाता है।

 

 

केन्द्र अध्यक्ष
प्रोफेसर कंचन चौधरी
फोन (विभागाध्यक्ष का कक्ष) : +91-3222-282258
कार्यालय : +91-3222-282257
फोन (कार्यालय): +91-3222-283582
फोन (निवास) : +91-3222-283583, +91-3222-
ई-मेल : kanchan @ hijli.iitkgp.ernet.in

Announcements
 
संपर्क करें
भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान खड़गपुर
भारत 721302
फोन- +91-3222-255221
फैक्स-+91-3222-255303

भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान खड़गपुर, भारत के कॉपीराइट © 2013 के अधीन